टुकड़ा भर आकाश…

जहाँ मैं कैद हूँ…

   एक आसमान का टुकड़ा दिखाई देता है…

मेरा मन आँख बनकर झाँकता है…

    फल-फूल से लदे हरे वृक्ष , उछलती इठलाती नदियाँ…

बादल , बिजली , पानी, जंगल, वर्षा…

    इस सूनी कोठरी के बाहर…

कितना सुंदर है संसार…।।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s