और कुछ देर…

​तिशनगी  हद से बढी़ है, ज़रा ठहर

और कुछ देर , न जा

सज़दे में हूँ तेरे, ज़रा नज़रें तो उठा
और कुछ देर ,न जा
मुन्तजि़र हूँ ज़रा करम फ़रमा
और कुछ देर ,न जा
तुम्हें भी फुर्सत न हीं और मुझे भी वक्त नहीं
अजब शै है हमारी ,मुहब्बत भी ।।

Advertisements

2 thoughts on “और कुछ देर…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s