ये मज़ाक भी अच्छा है…

​मैं तुम्हें फिर न मिलूंगा इस राह पर  

छोड़ के जाना है तो चले जाओ ,बेशक। 

वो इक दीवार थी जो हम दोनों के बीच 
गिरी तो  ,तुम  तुम न रहे ,हम  हम न रहे। ।
वफ़ा की उम्मीद ,वो भी तुम से
चलो ये मज़ाक भी अच्छा है।  

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s