पैरहन…

तेरी यादों का पैरहन है, जो

 रोज़ ओढ़ते हैं और बिछाते हैं ,

खो गयी हैं आहटें साँकल भी उदास है
खा़मोशियों के जंगल में हम ख़ुद को आजमाते हैं। 
दीवारों से है दोस्ती अपनी   

  अपने ग़म उनको ही सुनाते हैं। 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s