कतरा हूँ मैं…

अहदे-वफ़ा पर नाज़ न कर ,दिलवर

फ़कत ये अल्फा़ज़ हैं, कहने में क्या हर्ज़ है  ।
अख़लाक़,वफ़ा, कस्में-वादे आज की तारीख़ में
ख़ुदगर्ज़ो की अदाएँ है,ऐतबार न कर  ।
आँखों से गिरा शबनम का कतरा हूँ,मैं
अपने अंजामे-मुहब्बत से बेफिक्र हूँ,मैं ।

Advertisements

2 thoughts on “कतरा हूँ मैं…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s