मुख़्तसर सी बात..

कुछ मुख़्तसर सी बात थी

फिर भी लिहाज़ में

हम खा़मोश ही  रहे

तुम जाने क्या-क्या कह गये

हल्की सी टीस दिल में बाकी है

ख़्याल-ओ-ख़्वाब

किस कदर बिखर के रह गये

ख़ुद को भूले हुए थे हम

तेरे इश्क में इस कदरतेरी जफा़ओं से आज,हम दर-ब-दर हो के रह गये

Advertisements

2 thoughts on “मुख़्तसर सी बात..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s