इक मंजर…

इन लम्हों में कुछ न सोचो

तपती हुई राहें हैं, और तन्हा से हम-तुम

अल्फा़ज़ महके हुए,कुछ बहके हुए हम-तुम

झिलमिलाते हैं आँखों में रुके हुए आँसूं

इस मिलने बिछड़ने के मंजर से जरा निकलें

अब के बिछड़े तो शायद फिर न मिले हम-तुम

Advertisements

10 thoughts on “इक मंजर…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s