इम्तिहान…

परसुकून थी जिन्दगी दिन भी थे आराम के

उनसे मिलने के बाद कहां चैन कहां आराम है

करते हैं क्या-क्या हिकमते उनसे मिलने के लिए

गुज़रते हैं वो रूबरू फिर भी हमसे अनजान से

मुहब्बत की अजमते हैं जाने क्या-क्या

फिर भी वफा का इम्तिहान देते हैं हम जी-जान से

Advertisements

6 thoughts on “इम्तिहान…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s