बेक़रार दिल…

मुझे तुम्हारे ख़तों का नहीं ,तुम्हारा इन्तज़ार है

ओ बेसब्र करने वाले ,ज़रा बेसब्र होकर तो देख

मेरे दिल मेरी जान पर क़ाबिज़ रहने वाले

बेक़रार न कर ज़रा बेक़रार होकर तो देख

ज़िन्दगी कहाँ रही कहाँ गये वो तेरे ख़्याल

मैं गुम हूँ , हर जगह पे मुझे ढूँढ कर तो देख

दूर तू बैठा हुआ ख़ामोश ,सोचता है क्या

मेरा एतबार और अपनी बेएतबारी तो देख

Advertisements

2 thoughts on “बेक़रार दिल…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s