इक आग…

मेरी ख़्वाहिशों को मेरी आरजुओं को

लफ़्ज़ों में समेटने की कोशिश न करो

मैं कोई ग़ज़ल नहीं हूँ तुम्हारी

जो वर्को में लपेटोगे मुझे

इक धधकती हुई आग है

जो सुलगती जाती है जितना

बुझाना चाहूँ इसको

Advertisements

8 thoughts on “इक आग…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s