श्री कृष्ण…

द्वापर युग में भगवान विष्णु ने अवतार लिया था,कृष्ण के रूप में ये उनका नवाँ अवतार था । जब पृथ्वी दैत्यों के अत्याचार से पीड़ित हो रही थी तो वो ब्रह्मा जी के पास पहुँची,ब्रह्मा जी,शिव जी अन्य देवताओं के साथ वैकुण्ठ में भगवान विष्णु जी के पास गये और पृथ्वी की रक्षा की प्रार्थना की। विष्णु जी ने पृथ्वी की रक्षा का वचन दिया ।

कंस के कारागार में भाद्र पक्ष की अष्टमी को रोहिणी नक्षत्र में आधीरात को वसुदेव और देवकी के पुत्र के रूप भगवान विष्णु ने कृष्ण के रूप में अवतार लिया ।

वसुदेव ने कंस से बचाने के लिये कृष्ण को गोकुल यशोदा और नंद के यहाँ पहुँचा दिया जहाँ उनका लालन पालन हुआ ।

बाल्यकाल में ही कंस द्वारा कृष्ण को मारने के लिये भेजे गये राक्षसों तृणावर्त ,बकासुर ,केशी ,कालनेमि ,

व्योमासुर और पूतना का वध कृष्ण द्वारा किया गया ।

कालियानाग के विष के दुष्प्रभाव के कारण यमुना का जल विषैला हो गया था ,कृष्ण ने उसे परास्त कर ,सपरिवार रमणक द्वीप पर भेज दिया और यमुना के जल को स्वच्छ बनाया ,गायों के पालन के कारण उनका एक नाम गोपाल भी था ।

जरासंध,शिशुपाल,शाल्वऔर विदूरथ जैसे दुष्टों काभी वध कृष्ण ने किया ।

कृष्ण जी के स्वर्ग आरोहण के बाद ही कलयुग का आरंभ माना जाता है ,और कृष्ण भगवान के स्वर्ग गमन पश्चात द्वारका नगरी भी सात दिनों के बाद जलमग्न हो गयी ।

चतुर्भुज कृष्ण के हाथों में शंख,चक्र ,गदा और पद्म शोभित है , उनका आयुध सुदर्शन चक्र ,वाहन गरूड़ और ध्वजचिन्ह गरूड़ है ।

उनकी आठ पटरानियां थी -रुक्मणी ,सत्यभामा,जामवंती ,कालिन्दी ,मित्र विंदा,

सत्या, भद्रा और लक्ष्मणा ।

उनकी पुत्री का नाम चारूमती था ।

कृष्ण महान योगीश्वर ,राजनीतिज्ञ ,कूटनीतिज्ञ और कर्मयोगी थे ।

Advertisements

4 thoughts on “श्री कृष्ण…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s